Home Faculty Corner प्रकृति के विकल्प

प्रकृति के विकल्प

1 second read
0
923

प्रकृति ने रचा खेल करने को मेल
बहुत हुए सजल है अवसर जब मंगल
नियति ना कह दे चल आ तलाशे कोई हल
आपदाओं से घिरा वह पल
पूर्व मनुष्य का जो रहा वितल
अब क्यों याद करें वह कल
जिससे बना मनुष्य विह्वल
यू ंतो प्रकृति सभी की निर्मल
पर शेष अभी है कई विकल्प
कैसे पता लगाएं केवल समय है पल-दो-पल
नियति दृष्टि करती है केवल अपने हल की ओर
किंतु क्या यह पकड़ पाएगी स्थिर प्रज्ञा का कोई छोर।।

Load More Related Articles
Load More By admin
Load More In Faculty Corner

Check Also

Reading for Success: How CP Gurukul’s Library Supports Academic Achievement

In today’s fast-paced world, where information is abundant and distractions are plen…